रोड पर सब्जी बेचने वाले की बेटी ने प्रतिष्ठित ‘सिविल जज’ की परीक्षा पास की, दुनिया के लिए प्रेरणा बनी और बताया सफलता का मूल मन्त्र

Posted On:06/26/22

दुनिया में एक से बढ़कर एक हस्तियाँ मौजूद हैं जो विपरीत परिस्थितियां होने पर भी अपने आपको सफल साबित कर ही देते हैं और उन्ही लोगों के लिए लिखने वालों ने भी क्या खूब लिखा है- भला कौन कहता है कि आसमां में सुराख नहीं हो सकता है, जरा एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारों। कुछ ही शब्दों में कहे तो इसका आशय यही होगा कि अगर इंसान अपने सच्चे मन से चाह ले तो वह कुछ भी कर सकता है और इस बात को मध्य प्रदेश के इंदौर जिले की बेटी अंकिता नागर ने ये पूरी तरह सच साबित भी कर दिया है। आपको बता दें कि अंकिता ने प्रतिष्ठित सिविल जज की परीक्षा को पास कर  बिल्कुल साबित कर दिया कि अपने अथक मेहनत से लक्ष्य की प्राप्ति आसानी से की जा सकती है। आपको ये भी बता दें कि अंकिता के पिता सब्जी बेचते हैं और इस काम में वो भी अपने पिता की खूब मदद करती है। इसमें सबसे कमाल की बात तो ये है कि सिविल जज के रूप में चयनित होने के बाद भी अंकिता अपनी पिता की दुकान पर पहुंचकर सब्जी बेच रही थी।


Photo Credit : twitter

बेशक ही आज अंकिता की सफलता पर उसके पूरे परिवार और दोस्तो को गर्व है। गौरतलब है कि अपनी एलएलबी की पढ़ाई के दौरान ही अंकिता अपने सपने को सच करने के लिए सिविल जज की तैयारी में भी जुट गई थी। ऐसे में घर की आर्थिक स्थिति काफी ज्यादा कमजोर होने के बावजूद भी अंकिता के पैरेंट्स ने उन्हें आगे पढ़ने से कभी भी नहीं रोका। इस तरह से वो हमेशा ही अंकिता को सपोर्ट भी करते रहें जिसका आज नतीजा ये हुआ कि अंकिता ने अपने क्षेत्र में इतिहास ही रच दिया है।

Photo Credit : twitter

बेशक ही अंकिता ने आज अपनी कड़ी मेहनत और समर्पण से सफलता प्राप्त की है। इसके साथ ही अपनी पढ़ाई के बाद अंकिता को जब भी कभी मौका मिलता है तो अंकिता अपने पिता की सब्जी के दुकान के पास आ जाती है और सब्जी बेचने में पिता की मदद करते लगती हैं। इसके साथ ही देखा जाय तो अंकिता, आज एक दूसरों के लिए भी एक उदाहरण और इंस्पाइरेसन बन गई है। वैसे देखा जाय तो आज भी गांव-देहात में कई ऐसी हज़ारों लड़कियां हैं जो पढ़ लिखकर आगे बढ़ना चाहती हैं, मगर परिवार की आर्थिक स्थिति सही नहीं होने के कारण वापस वही जाकर रुक जाती हैं।