अगर हरी तुलसी अचानक सूख जाए तो यह अशुभ संकेत है, एक के बाद एक कई दुख आते हैं।

अगर हरी तुलसी अचानक सूख जाए तो यह अशुभ संकेत है, एक के बाद एक कई दुख आते हैं।

हिंदू धर्म में तुलसी के पौधे का बहुत महत्व है। यहां के लोग इस पौधे को पवित्र मानते हैं। उसकी पूजा। उन्हें देवी का दर्जा दिया गया है। वह श्री कृष्ण के साथ उसका विवाह भी तय करता है। वास्तुशास्त्र की दृष्टि से भी तुलसी को घर में रखना शुभ माना जाता है। कहा जाता है कि इससे घर के सारे दोष दूर हो जाते हैं। तुलसी में मां लक्ष्मी का वास भी माना जाता है। जिससे घर में सुख-समृद्धि आती है।

आयुर्वेदिक चिकित्सा में भी तुलसी का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। यह सब आपने पहले पढ़ा और सुना होगा। लेकिन क्या आप जानते हैं कि माता तुलसी हमें आने वाली मुसीबत का संकेत भी देती हैं। हाँ यह सच है। हिंदू मान्यताओं के अनुसार तुलसी हमें आने वाले दुखों या कठिनाइयों की जानकारी विभिन्न माध्यमों से देती है।

सूखे तुलसी का अर्थ

शास्त्रों के अनुसार तुलसी का पौधा हमारे घर को बुरी नजर और नकारात्मक शक्तियों से बचाता है। यह सकारात्मक ऊर्जा से भरपूर है। जब यह हरा और अच्छी स्थिति में दिखाई देता है, तो घर में सुख-शांति भी बनी रहती है। लेकिन अगर तुलसी का पौधा सूखने लगे तो यह बड़ी परेशानी का संकेत है। इसका मतलब है कि घर में अशांति, दुख और परेशानी है।

सूखी तुलसी का मतलब यह भी है कि अब गरीब घर आने की जरूरत नहीं है। आपका पैसा बर्बाद होगा। क्योंकि तुलसी में धन की देवी लक्ष्मी का वास होता है। लेकिन जब यह सूख जाता है तो लक्ष्मीजी चली जाती हैं। इससे घर में दरिद्रता आती है। पारिवारिक कलह भी बढ़ जाती है। घर की सकारात्मक ऊर्जा समाप्त होती दिख रही है। घर में बुरी शक्तियां फैलती नजर आ रही हैं। मतलब एक के बाद एक कई दुख आते हैं।

तुलसी सूख जाए तो क्या करें ?

अगर घर का बना तुलसी सूख जाए तो उसे तुरंत फेंक देना चाहिए। सूखी तुलसी की पूजा नहीं करनी चाहिए। दीपक या अगरबत्ती नहीं होनी चाहिए। आप सूखे तुलसी को बर्तन से निकाल लें और उसकी जगह ताजी और हरी तुलसी लें। वहीं सूखे तुलसी को नदी की तरह बहते पानी में ठंडा कर लें।

तुलसी के नियम

शास्त्रों में तुलसी को लेकर कई तरह के नियम बताए गए हैं। तुलसी की तरह रोज सुबह-शाम पूजा करनी चाहिए। उन्हें दीया जलाना चाहिए। हालांकि एकादशी और ग्रहण के दिन तुलसी की पूजा नहीं करनी चाहिए। इस दिन उन्हें जल भी नहीं देना चाहिए। इस दिन तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ने चाहिए। रविवार के दिन आप पानी की जगह दूध दे सकते हैं। जबकि रविवार के दिन तेल की जगह घी के दीपक का प्रयोग किया जा सकता है। इन नियमों से माता लक्ष्मी प्रसन्न होंगी और आपके घर में अन्न का वास होगा।

admin